मां के पैरों में बेटे ने डाली लोहे की जंजीरें

0
meerut-son-kept-mother-tied-in-auto-rickshaw-1318-1
Advertisement
Loading...

meerut-son-kept-mother-tied-in-auto-rickshaw-1318-2

इंसान को बेटे की चाह तो बहुत पुराने समय से है, लेकिन कई बार बेटे ऐसा काम कर जाते है की इंसान बाद में सोचता है, इससे अच्छी तो मेरी बेटी ही है या फिर वो बिना औलाद के रह लेता तो शायद उसकी जिंदगी ज्यादा बेहतर होती |

खबर आ रही है मेरठ के रहने वाले एक कलयुगी बेटे अपनी सग्गी माँ के पैरों में लोहे की जंजीरें डाल कर रखी हुई है | यह बेहद ही ज्यादा इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला है | 90 वर्षीय बुजुर्ग अवरी बेगम को पड़ोसियों ने जंजीरों से बंधा देखा तो पुलिस को इस मामले की सूचना चाहिए |

पुलिस पड़ोसियों की शिकायत पर मौके पर पहुंची और 90 वर्षीय बुजुर्ग अवरी बेगम को लोहे की जंजीरों से आज़ाद किया | आपको बताना चाहेंगे की ऊपर दी गयी यह तस्वीर थाना खरखौदा की लोहिआ नगर कॉलोनी की है, जंहा एक ऑटो रिक्शा के अंदर बुजुर्ग महिला पैरों में बंधी बेड़िया के साथ लेटी हुई नज़र आ रही है |

पुलिस ने जब उसके बेटे से पूछताछ की तो उनके बेटे ने बताया की अवरी बेगम यानी उनकी माँ को भूलने की बिमारी है | जिसके कारण वो कभी भी कही भी चली जाती है और रास्ता भटक जाती है | जिसके बाद कुछ बच्चे तो इन पर पत्थर मारना शुरू कर देते है |

meerut-son-kept-mother-tied-in-auto-rickshaw-1318-3

रात को तो घर में आराम से अंदर नींद में सो जाती है लेकिन दिन में इनको जंजीरों से भांधना पड़ता है | अवरी बेगम के बेटे ने बताया की इसकी मानसिक हालत 2 महीने से ऐसी हुई पड़ी है | इनके पति एक सरकारी अफसर थे जिनकी मौत हो चुकी है |

अवरी बेगम के बेटे ने बताया की सरकार से पेंशन तो आती है लेकिन पेंशन इतना ज्यादा नहीं है की हम इनका पूरी तरह से इलाज करवा सके | फिलहाल पुलिस लड़के पर नज़र बनाये हुए है और पुलिस ने बताया की जब तक लड़के की बातों की पुष्टि नहीं होती हम नज़र बनाये रखेंगे |

पुलिस ने आश्वासन दिया है की हम सरकार से मदद की अपील करेंगे ताकि इस 90 वर्षीय बजुर्ग अवरी बेगम का इलाज हो सके | पुलिस ने कहा है की अगर जंजीरों से बाँधने का कारण हमें कुछ और मिला तो हम उसके लड़के पर बनती हर कार्यवाही करेंगे |

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − fourteen =