जानें सीनू की बनाई रेप प्रूफ पेंटी की ख़ास बातें

0
seenu-kumari-made-anti-rape-product-6118-1
Loading...

seenu-kumari-made-anti-rape-product-6118-3

भारत में रहने वाली सीनू कुमारी नाम की एक 19 वर्ष की लड़की ने रेप को रोकने के लिए एक ऐसा मॉडल त्यार किया है, खुद मंत्री भी उनकी तारीफ करने से चूक नहीं पाए | सीनू कुमारी ने बताया की 7 साल की बच्ची के साथ रेप और ह्त्या की खबर ने उसे झिंझोर कर रख दिया था |

इसी के साथ उसने ठान लिया था की अब वो कुछ ऐसा करेंगी जिससे आने वाले समय में रेप को रोका जा सके | इसलिए सीनू कुमारी ने अपने हुनर और विद्या की मदद से रेप प्रूफ पेंटी त्यार की है | अब आपके मन में सवाल पैदा हो रहा होगा की रेप प्रूफ पेंटी क्या होती है और यह काम कैसे करती है ?

आपको बताना चाहेंगे की यह कोई आम पेंटी नहीं है, यह एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है | इसमें एक स्मार्ट लॉक भी मजूद है जो सही पासवर्ड से ही ओपन होता है, इसके साथ ही इसमें GPS सिस्टम और मइक्रोफ़ोने भी लगाया गया है |

यह बात जब केंद्रीय बाल एंव महिला विकास मंत्री मेनका गाँधी तक पहुंची तो, उन्होंने भी सीनू कुमारी के इस प्रोडक्ट की तारीफ की और भविष्य में ऐसे नए अविष्कारों के लिए भी सीनू कुमारी को शुभकामनाये दी |

seenu-kumari-made-anti-rape-product-6118-2

आपको बताना चाहेंगे की सीनू कुमारी एक बीएससी की स्टूडेंट है, जिसके कारण उसे इस मॉडल को बनाने में आ रही दिक्क्तों का हल उसने अपनी विद्या की ताक़त से निकाल लिया | इस पेंटी को बुलेट प्रूफ कपडे से बनाया गया है ताकि इसे चाक़ू या अन्य धारदार हथ्यार से न काटा जाये और न ही जलाया जा सकता है |

इसमें एक बटन ऐसा भी है जिसे प्रेस करने पर 100 नंबर 1090 नंबर पर कॉल अपने आप चला जायेगा और इसमें लगे जीपीएस सिस्टम के कारण पुलिस को लड़की की सही लोकेशन और मइक्रोफ़ोने लगे होने के कारण चल रही बात चीत भी पहुँच जाएगी |

रिज़ल न्यूज़ सीनू कुमारी के रेप रोकने वाले इस प्रोडक्ट को बनाने के लिए उनकी सराहना करता है | इसके साथ ही आपको बताना चाहेंगे की इस मॉडल को और ज्यादा बेहतर बनाने से पहले इस पेटेंट करवाने के लिए इसका आवेदन इलाहाबाद स्थित नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (एनआईएफ) में भेजा गया है |

सीनू ने बताया की अभी इस मॉडल को त्यार करने में लगभग 5000 का खर्च हुआ है और यही नहीं, सीनू एक ऐसे मॉडल पर काम कर रही है जिससे पटरी के कटे होने की खबर रेलवे को पहले से चल जाए और रेल दुर्घटनाओं को रोका जा सके, अब देखना होगा की यह मॉडल कब तक त्यार हो पाता है |

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here